Romantic Love Story in Hindi – विवेक और मीनाक्षी की प्रेम कहानी 1

0
295
Romantic Love Story in Hindi

विवेक और मीनाक्षी की प्रेम कहानी – Romantic Love Story in Hindi – दोस्तों मेरा नाम विवेक है और मेरी उम्र लगभग 22 साल है। मैं भारतीय स्टेट बैंक में मैनेजर के पद पर कार्यरत हूं। आप से उम्मीद करता हूं कि यह लव स्टोरी आपको बहुत पसंद आएगी तो चलिए शुरू करते हैं। कहानी की शुरुआत उस समय से होती है जब मैं अपने दोस्त की शादी में गया हुआ था। उस शादी में मैंने एक लड़की को देखा था जो बहुत खूबसूरत थी और मैं उसे पाना चाहता था।

विवेक और मीनाक्षी की प्रेम कहानी | Romantic Love Story in Hindi – 

पहली बार मैंने उस लड़की को दुल्हन के साथ देखा था और देखते ही उससे प्यार हो गया था। मैं यही चाह रहा था कि मुझे किसी भी तरह से यह लड़की मिल जाए। पहली बार किसी लड़की को देखने के बाद मेरे दिल में हलचल पैदा हो गई थी। मानो ऐसा लग रहा था कि शादी उसी लड़की की हो रही हो। मैं सीधे अपने दूल्हे दोस्त के पास गया और उस लड़की के बारे में पूछा। तब मेरे दोस्त ने उसका नाम मीनाक्षी बताया।

मीनाक्षी थोड़े पीले लहंगा चुन्नी में बहुत सुंदर दिख रही थी और उसके सिर के बाल कमर तक आ रहे थे। उसके ब्लाउज में डिजाइन होने की वजह से पीछे से मीनाक्षी की गोरी पीठ को दिख रही थी। काफी सजी-धजी होने की वजह से वह बहुत खूबसूरत लग रही थी। मैं टकटकी लगाए सिर्फ मीनाक्षी को ही देख रहा था। Romantic Love Story in Hindi

थोड़ी ही देर बाद दूल्हा और दुल्हन स्टेज पर आ जाते हैं और एक दूसरे को वरमाला पहनाने लगते हैं। उस समय वह लड़की मेरी बगल वाली कुर्सी पर ही बैठी हुई थी। सभी लोग दूल्हे और दुल्हन को देख रहे थे लेकिन मेरी नजर मीनाक्षी पर टिकी हुई थी। कुछ देर शांत बैठने के बाद मैंने मीनाक्षी को हेलो कहा तो उसने भी मुझे हेलो कह कर जवाब दिया।

मैंने मीनाक्षी से पूछा – दुल्हन की और से हो या दूल्हा। मेरा मतलब दुल्हन की रिश्तेदार हो या दूल्हे की। तभी मीनाक्षी ने जवाब दिया – मैं दुल्हन की बुआ की लड़की हूं और आप। Romantic Love Story in Hindi

मैंने कहा – दूल्हा मेरा बचपन का साथी है। हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं। इनके और हमारे परिवार के बीच फैमिली संबंध भी अच्छे हैं। थोड़ी ही देर बाद में सभी लोग खाना खाने चले जाते हैं। मैं वहां से उठकर दूल्हे के पास चला जाता हूं।

मैंने अपने दोस्त से कहा – दुल्हन की बुआ की लड़की बहुत सुंदर है। मुझे ऐसा लगता है कि मैं पहली नजर में ही उससे प्यार करने लगा हूं। अगर आपकी मेहरबानी हो जाए तुम मेरा प्यार भी एक दिन शादी तक जरूर पहुंच जाएगा।

तभी मेरा दूल्हा दोस्त जवाब देता है – थोड़ी देर के लिए शांत रहना। मैं तेरा काम कर दूंगा। मैं दूल्हे के पास ही बैठा हुआ था। तभी वह लड़की दुल्हन के पास आकर बैठ जाती है।

Also Read – Pubg Wali Girlfriends – 1 | Real Life Love Stories in Hindi | स्टोरी इन हिंदी

मीनाक्षी को पास में बैठा देखकर मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसकी और देख कर मुस्कुराने लगा। मुझे लग रहा था कि मीनाक्षी मेरे प्यार में जरूर गिरेगी। मीनाक्षी भी मुझे ही देख रही थी। तभी मैं उसे इशारे में अपने मोबाइल नंबर देने की कोशिश करता हूं लेकिन वह समझ नहीं पाती है। मैंने इशारे से मीनाक्षी को पास वाले कमरे में आने के लिए कहा और वहां से उठ कर चला गया। Romantic Love Story in Hindi

थोड़ी देर बाद वह कमरे के अंदर पहुंच जाती है। मैंने अपने पर्स से मोबाइल नंबर की पर्ची निकाल कर मीनाक्षी के हाथ में थमा दी और कहा – अगर अच्छा लगता हूं तो कॉल जरूर कर लेना। मीनाक्षी मुझसे कहती उससे पहले ही में वहां से निकल गया। शादी का फंक्शन लगभग खत्म हो चुका था। सब लोग अपने-अपने घर जा रहे थे लेकिन मेरा दिल मीनाक्षी को छोड़कर जाने के लिए नहीं कह रहा था।

काफी देर हो गई थी, लगभग सभी लोग चले गए थे। मीनाक्षी भी मुझे नजर नहीं आ रही थी। उसके बाद मैंने अपनी बाइक स्टार्ट की और वहां से घर के लिए रवाना हो गया। कई दिन गुजर गए लेकिन मीनाक्षी ने मुझे एक बार भी कॉल नहीं किया था। मैं सोच रहा था कि शायद वह किसी और से प्यार करती है इसलिए उसने मुझे एक बार भी कॉल नहीं किया है। Romantic Love Story in Hindi

एक दिन मुझे पता चला कि हमारे ऊपर वाले फ्लैट में नई फैमिली रहने के लिए आई है। मैं नीचे पार्किंग में खड़ा हुआ था। तभी मैंने एक आदमी को देखा और सोचने लगा कि इसे मैंने पहले कहीं देखा है लेकिन याद नहीं आ रहा था। दो-तीन दिन तक उस आदमी से मेरा आमना-सामना होता रहा लेकिन उसे पहचानने में मुश्किल हो रही थी। थोड़ी देर बाद मेरा दोस्त मुझे कॉल करके बताता है कि मैं तुम्हारी भाभी के साथ घर आने वाला हूं।

दोस्त के आने की खुशी में गेट पर ही खड़ा हुआ था। लगभग आधे घंटे बाद मेरा दोस्त अपनी पत्नी के साथ वहां पहुंच जाता है। मैं अपने दोस्त को अंदर ले गया और बातचीत करने लगे। बातचीत के दौरान उसकी पत्नी ने बताया कि उसकी बुआ जी ऊपर वाले फ्लैट में रहती है। इतना कहने के बाद मुझे समझ आया कि उस आदमी को मैंने इनकी शादी में देखा था। omantic Love Story in Hindi

कुछ देर बातचीत करने के बाद हम तीनों ऊपर वाले फ्लैट पर चले गए। मैंने दरवाजे का बैल बजाया और थोड़ी देर बाद दरवाजा खुलता है तो देखता हूं कि घर के अंदर मीनाक्षी खड़ी हुई थी। मीनाक्षी को अंदर देख कर मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि इनका परिवार हमारे ऊपर वाले फ्लैट में रहता है। काफी देर हमारे बीच बातचीत चलती रही तब मेरे दोस्त ने मेरे बारे में भी उनको सब कुछ बता दिया था।

धीरे-धीरे मीनाक्षी के परिवार और हमारे परिवार के बीच काफी अच्छे संबंध बन गए। मीनाक्षी और मेरी बहन दोनों अच्छे दोस्त बन गई इसलिए उनका हमारे घर आना और मेरी मां का उनके घर जाना कॉमन हो गया था। धीरे-धीरे मैं भी मीनाक्षी के घर जाने लगा। मेरी मां और मीनाक्षी की मां के बीच काफी जमती थी। जब भी हमारे घर में कुछ नया बनता तो हम उनके घर जरूर पहुंचाते थे। Romantic Love Story in Hindi

एक दिन मेरी मां ने मीठी खीर बनाई थी। तब मेरी मां ने मुझे मीनाक्षी के घर खीर देने के लिए बोला तो मैं वह देने के लिए मीनाक्षी के घर चला गया। मैं बाहर खड़ा होकर दरवाजे की बेल बजा रहा था लेकिन कोई दरवाजा नहीं खोल रहा था। तीन चार बार बेल बजाने के बाद मीनाक्षी ने दरवाजा खोला। मैंने खीर का बर्तन मैंने आपसे को दे दिया। उसके बाद मैंने पूछा – घर पर कोई नहीं है क्या कहां गए हैं सब लोग।

मीनाक्षी ने जवाब दिया – सभी लोग किसी काम के लिए गांव गए है।

उस समय मैंने मीनाक्षी को देखा तो देखता ही रह गया क्योंकि वह नहा कर बाहर निकली ही थी। उस समय उसने लोअर तथा पीले रंग का टीशर्ट पहने हुआ था। वह मुझे बहुत खूबसूरत लग रही थी। मुझसे रहा नहीं गया और मैंने कह दिया – आज तो बहुत सुंदर लग रही हो। तभी मीनाक्षी ने कहा – क्या शादी वाले दिन से भी अधिक सुंदर लग रही हूं। Romantic Love Story in Hindi

मैंने कहा – यह पीली टीशर्ट आपके चेहरे की शोभा बढ़ा रही है। तभी मैंने फिर से कहा – आपने आज तक मेरी उस बात का जवाब नहीं दिया और ना ही मुझे कॉल करके बताया।

मीनाक्षी – उस दिन आपके मोबाइल नंबर कहीं गिर गए थे, जिसकी वजह से मैं तुम्हें कॉल नहीं कर पाया पाई।

मैं – तो इसका मतलब तो यह हुआ कि तुम भी मुझसे प्यार करती हो।

तभी मीनाक्षी मुझसे कहती है कि पागल! मैंने तुम्हें पहली बार शादी में देखा था, तब से ही पसंद करने लग गई थी। लेकिन तुमसे दोबारा मुलाकात नहीं हो पाई। काफी देर बातचीत करने के बाद मैं नीचे आ गया। मैं अपने घर में बैठकर मोबाइल में पब्जी खेल रहा था तभी मीनाक्षी भी वहां आ जाती है। मेरी मां ने मुझे सामान की लिस्ट दी और कहा – विवेक तुम बाजार चले जाना और जो लिस्ट दी है वह सामान लेकर आ जाना। Romantic Love Story in Hindi

मैं पार्किंग से गाड़ी निकाल रहा था। तभी मीनाक्षी भी आ जाती है और मेरे साथ बाजार जाने की कहती है। मैंने मीनाक्षी को गाड़ी पर बैठने के लिए कहा और हम दोनों वहां से बाजार के लिए निकल गए। सबसे पहले हम दोनों एक रेस्टोरेंट पहुंचे और कॉफी पीते हुए अपने प्यार की शुरुआत की। उसके बाद घर का सारा सामान लेकर वापस आ गए। मीनाक्षी मेरे पीछे बैठी हुई थी और वह मुझे गुदगुदी कर रही थी।

मैंने घर से थोड़ी ही दूर मीनाक्षी को उतरने के लिए कहा। मेरे कहने पर मैंने आपसे बाइक से नीचे उतर गई। तब मैंने मीनाक्षी से कहा- तुम यहां रुको। मैं कुछ ही देर में सामान को घर पर रखकर वापस आता हूं। थोड़ी ही देर में मैं सामान अपनी मां को सौंप कर वापस मीनाक्षी के पास आ गया। मैंने मीनाक्षी से कहा – बताओ कहां चलना है?

मीनाक्षी – जहां तुम्हारी इच्छा हो, मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है। मैं मीनाक्षी को एक पार्क में लेकर चला जाता हूं और देखता हूं कि चारों ओर कई प्रेमी जोड़े बैठे हुए हैं। Romantic Love Story in Hindi

मैं भी एक बेंच पर मीनाक्षी के साथ बैठ जाता हूं। हम दोनों बातचीत कर रहे थे। तभी मीनाक्षी अपना फिर मेरे पैरों पर रखकर लेट जाती है। मैं मीनाक्षी के बालों को सहला रहा था। हम दोनों बहुत रोमांटिक बातें कर रहे थे। उस समय मुझसे रहा नहीं गया और मैंने मीनाक्षी के गाल को चूम लिया। काफी देर मस्ती भरी बातें करने के बाद मीनाक्षी घर चलने के लिए कहती है। थोड़ी देर बाद हम दोनों घर पहुंच जाते हैं।

इसके बाद हम दोनों एक दिन भी बिना मिले नहीं रहे। सच कहूं तो मीनाक्षी से इतना गहरा लगा वह चुका था कि मुझे उसके बिना रहा नहीं जाता था। धीरे-धीरे हमारे प्यार को काफी दिन गुजर गए। मीनाक्षी के घरवाले शादी के लिए लड़का ढूंढ रहे थे। तभी मैंने अपनी बहन को हम दोनों के प्यार के बारे में सब कुछ बता दिया। इसके बाद मैंने अपने दोस्त और उसकी पत्नी को भी बता दिया था कि मैं और मीनाक्षी एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। Romantic Love Story in Hindi

मेरे दोस्त की पत्नी और मेरी बहन की वजह से ही मीनाक्षी से मेरी शादी हो पाई थी। आज भी मैं और मीनाक्षी एक दूसरे को अपनी जान से भी अधिक प्यार करते हैं। मीनाक्षी की वजह से ही मैं अपने इस जीवन में बहुत खुश हूं। मीनाक्षी गृहणी होने के बावजूद भी मुझे जीवन में कुछ नया करने के लिए प्रेरित करती रहती है। Romantic Love Story in Hindi

दोस्तों अगर आपको यह लव स्टोरी पसंद आई हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना बिल्कुल भी ना भूले। इस प्रकार के नई लव स्टोरी पढ़ने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे।

यह भी पढ़ें – Pubg Wali Girlfriends – 2 | Real Life Love Story in Hindi | स्टोरी इन हिंदी

सच्चे प्यार की लव स्टोरी A Short Romantic Love Story in Hindi

Romance love story | एक लड़की पहेली सी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here