Best Hindi Romantic Love Story – दिल को छू लेने वाली रियल लव स्टोरी

दिल को छू लेने वाली रियल लव स्टोरी | Best Hindi Romantic Love Story – दोस्तों आज की यह लव स्टोरी बहुत ही रोमांटिक है। यह लव स्टोरी एक सच्चे प्यार की कहानी है। इस लव स्टोरी की शुरुआत एक बाजार से होती है और शादी तक पहुंच जाती है। मैं उम्मीद करता हूं कि जब आप इस लव स्टोरी को पूरा पढ़ेंगे तो आपको यह बहुत पसंद आएगी। मेरा नाम आदित्य है और मेरे परिवार में मेरे माता-पिता और मेरी एक छोटी बहन जिसका नाम सुलेखा है। मेरे पिताजी रेलवे में लोको पायलट है और हम सभी मेरे पिताजी के साथ ही रहते हैं।

दिल को छू लेने वाली रियल लव स्टोरी | Best Hindi Romantic Love Story –

बात उस समय की है जब मेरे पिताजी का ट्रांसफर मुंबई में हो गया था। उस समय मेरी उम्र लगभग 21 वर्ष थी। पापा को रेलवे की ओर से रहने के लिए एक सरकारी क्वार्टर मिलता है। पापा का ट्रांसफर होने के बाद हम सभी मुंबई शिफ्ट हो गए थे। हम जिस जगह पर रह रहे थे, वहां केवल रेलवे के ही कर्मचारी और उनका परिवार रहते थे।

एक दिन मैं और मेरी मां घरेलू सामान लेने के लिए बाजार गए हुए थे। जिस दुकान से हम सामान खरीद रहे थे। उसी दुकान से एक लड़की भी सामान खरीद रही थी। वह लड़की देखने में बहुत खूबसूरत थी। मां सामान खरीद रही थी और मैं पास में खड़ा होकर उस लड़की को देख रहा था। उस दिन बाजार में काफी भीड़भाड़ थी। मैं देख रहा था कि एक लड़का उस लड़की के पीछे खड़ा होकर उसके साथ छेड़छाड़ कर रहा था। वह लड़की अपने साथ हो रही बदतमीजी को इस तरह से इग्नोर कर रही थी मानो उसे पता ही ना हो।  Best Hindi Romantic Love Story

मैं काफी देर से देख रहा था और मुझसे रहा नहीं गया। मैंने उस लड़के का हाथ पकड़ कर उसके गाल पर एक जोरदार थप्पड़ जड़ दिया। तभी उस लड़की ने पीछे मुड़कर देखा लेकिन कुछ भी जवाब नहीं दिया। काफी देर कहासुनी होने के बाद वह लड़का वहां से चला गया। लड़के के चले जाने के बाद उस लड़की ने मुझसे थैंक्यू कहा और वहां से अपनी स्कूटी स्टार्ट करके चली गई। मैं सिर्फ उस लड़की को ही देख रहा था।

उसके बाद मेरी मां मुझसे कहने लगी – आदित्य, किस वजह से तुमने उस लड़के को थप्पड़ मारा है। तुम जहां भी जाते हो झगड़ा जरूर करते हो इसलिए मैं तुम्हें अपने साथ नहीं लेकर जाती हूं।

उसके बाद मैंने अपनी मां से कहा – मां वह लड़का उस लड़की के साथ छेड़छाड़ कर रहा था। मैं काफी देर से देख रहा था। उसके बाद मुझसे रहा नहीं गया इसलिए मैंने उस लड़के को थप्पड़ जड़ दिया। Best Hindi Romantic Love Story

जब हम सामान लेकर अपने घर आ रहे थे। तब मां रास्ते में मुझे उस लड़के की वजह से डांट रही थी। मैं बिना कुछ कहे बाइक चला रहा था। जैसे ही मैं घर पहुंचता हूं तो पास वाले मकान के बाहर उस स्कूटी को खड़ी देखता हूं। मुझे तुरंत याद आ गया की यह स्कूटी बाजार वाली लड़की की है। मैंने अपनी मां से सामान लिया और जल्दी से मकान के अंदर जाकर रख दिया ताकि मां को बार-बार बाहर ना आना पड़े।

सामान अंदर रखने के बाद मैं बाहर गेट के पास आकर खड़ा हो गया और उस स्कूटी को देखने लगा। मैं इस बात का पता लगाना चाहता था कि आखिरकार वह लड़की यहां क्यों आई है। लगभग 20 मिनट इंतजार करने के बाद वह लड़की बाहर निकलती है और स्कूटी को अंदर ले जाती हैं। स्कूटी को अंदर ले जाने के बाद मुझे कुछ-कुछ समझ आ रहा था की यह लड़की भी शायद यही रहती हो। हमारे और उनके मकान के बीच में सिर्फ एक दीवार थी। दीवार ऊंची नहीं होने की वजह से दूसरी तरफ हर वस्तु को आसानी से देखा जा सकता था। Best Hindi Romantic Love Story

अगले दिन मैं सुबह उठकर पौधों में पानी दे रहा था तभी दूसरी तरफ झाककर देखा तो वह लड़की ब्रश कर रही थी। उसको देखकर मुझे यकीन हो गया था कि वह लड़की इधर ही रहती है। मैं चुपचाप खड़ा होकर उसे देखने लगता हूं। कुछ देर बाद उस लड़की की निगाह भी मुझ पर पड़ जाती है और वह मुझे तुरंत पहचान लेती है। उसके बाद हम दोनों के बीच बातचीत शुरू हो जाती है। बातचीत के दौरान पता चला कि उस लड़की के पिताजी भी रेलवे में नौकरी करते हैं और राजस्थान के ही रहने वाले हैं। राजस्थानी परिवार होने की वजह से हमारे और उनके परिवार के बीच काफी अच्छा तालमेल हो चुका था।

पहले दिन बात करने पर मैंने उस लड़की से नाम तक नहीं पूछा था। रोजाना की तरह अगले दिन भी मैं पौधों में पानी देने के बहाने उस लड़की के बाहर निकलने का इंतजार करने लगा। कुछ देर बाद उस लड़की को मेरी ओर आते हुए देखना पौधों में पानी देने लग जाता हूं। हम दोनों बातें करने लगते हैं, तभी मेरी छोटी बहन सुलेखा भी वहां पर आ जाते हैं। उसके बाद मैंने उस लड़की से नाम पूछा तो उसने अपना नाम ईशा बताया।

मैंने उससे कहा – आपका नाम बहुत प्यारा है। इतना कहने के बाद ईशा ने मुझसे थैंक्यू कहा। Best Hindi Romantic Love Story

पड़ोसी होने की वजह से मेरी मां और ईशा की मां एक दूसरे की अच्छी दोस्त बन चुकी थी। जब भी हमारे घर में कुछ नया बनाया जाता था तो ईशा के घर जरूर पहुंचाया जाता था। धीरे-धीरे मैं और ईशा अच्छे दोस्त बन गए। ईशा की मां को मैं आंटी कहकर बुलाता था। हमारे फैमिली रिलेशन अच्छे होने की वजह से कभी-कभी मैं उनके घर चला जाता था। ईशा के भाई नहीं होने की वजह से आंटी मुझे अपने बेटे की तरह प्यार करती थी।

ईशा रोजाना पास के ही एक गार्डन में घूमने जाती थी। एक दिन मैंने ईशा से कहा – यार, मैं यहां पर पूरे दिन बोर हो जाता हूं इसलिए मुझे कहीं घूमने ले चलो। एक दिन मेरे साथ घूमने चलो उसके बाद मैं अकेला ही चले जाऊंगा क्योंकि मैं यहां नया हूं इसलिए यहां के बारे में कम ही जानता हूं। ईशा ने जवाब – मैं रोजाना गार्डन में घूमने जाती हूं, तुम भी मेरे साथ चलना। उसकी इस बात को सुनकर मैं काफी खुश हो रहा था परंतु मुझे ईशा के गार्डन घूमने जाने का पहले से ही पता था। उसके साथ घूमने जाने के लिए मैं थोड़ा अनजान बन रहा था।  Best Hindi Romantic Love Story

मैं रोजाना शाम के समय ईशा के साथ घूमने जाने लगा। घरेलू सामान लेने के लिए भी मैं और ऐसा ही एक साथ जाते थे। साथ-साथ रहने की वजह से मुझे पता ही नहीं चला कि मैं कब उससे प्यार करने लग गया। एक दिन ईशा अपनी सहेली की शादी में चली जाती है और उस दिन में मार्केट गया हुआ था। जब मैं घर आया तो मुझे इस बात का पता चला। मैं काफी परेशान हो गया था मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं उसके बिना अधूरा हो गया हूं।

जिस दिन भी मैं ईशा को नहीं देखता तो मुझे ऐसा लगता कि मानो मेरी कोई महत्वपूर्ण चीज मुझसे खो गई हो। अगले दिन ईशा जब घर आई तो वह काफी परेशान नजर आ रही थी। मैंने उससे परेशानी के बारे में पूछताछ की तो उसने मुझे पता नहीं से मना कर दिया। उसके चेहरे से साफ तौर पर दिखाई दे रहा था कि वह किसी से बहुत नाराज है। उसके बाद मैंने ईशा आखिरकार उस परेशानी के बारे में जाना नहीं लिया। तब पता चला कि ईशा जिस शादी में गई थी उसमें एक लड़के ने उसके साथ बहुत बदतमीजी की थी।  Best Hindi Romantic Love Story

ईशा की इस बात को सुनकर मुझे बहुत गुस्सा आया और मैं ईशा से पूछने लगा – क्या तुम उस लड़के का घर जानती हो। ईशा ने जवाब – हां, अच्छी तरह से जानते हो लेकिन तुम को कभी नहीं बताऊंगी क्योंकि तुम बिना सोचे समझे मारपीट करोगे। मैं – चलो कोई बात नहीं। शादी जैसे बड़े प्रोग्राम में छोटी मोटी बातें होती रहती है। इन बातों को दिल पर नहीं लेना चाहिए। मेरा इतना कहने पर वह मुझसे भी नाराज हो गई और मैं यही चाहता था।

मैंने आंटी से उसे शादी वाली जगह के बारे में जान लिया था। आंटी ने ईशा की दोस्त के घर के बारे में मुझे अच्छी तरह से बता दिया था। मैं अपने घर से बाइक स्टार्ट करके ईशा की दोस्त के घर पहुंच गया। उस समय शादी का फंक्शन चल रहा था। वहां शादी का माहौल देखकर मैं समझ चुका था कि ईशा काफी परेशान होने की वजह से शादी खत्म होने से पहले ही घर चली गई थी। मुझे अंदर ही अंदर काफी गुस्सा आ रहा था।

कुछ देर इधर-उधर देखने के बाद सीधा ईशा की दोस्त के पास चला गया ईशा की दोस्त से कहा – मेरा नाम आदित्य है और मैं ईशा का दोस्त हूं। मैं यहां पर सिर्फ यह जानने आया हूं कि ईशा शादी के इस प्रोग्राम को बीच में छोड़कर क्यों गई थी।

ईशा की दोस्त – ईशा के घर जाने का कारण मुझे पता नहीं है लेकिन वह मेरे पास आई तब काफी गुस्से में लग रही थी । तब मैंने इस आपकी दोस्त से कहा – मैं यहां झगड़ा करने के लिए नहीं आया हूं। आप मुझे पूरी बात बताइए। काफी देर कोशिश करने के बाद आखिरकार ऐसा कि दोस्त मुझे सारी बात बता देती है। Best Hindi Romantic Love Story

अब मेरी निगाहें सिर्फ उस लड़के को ढूंढ रही थी। ईशा की दोस्त ने मुझे उस लड़के के बारे में बता दिया था लेकिन वह मुझे नजर नहीं आ रहा था। थोड़ी देर इधर-उधर ढूंढने के बाद आखिरकार वह लड़का मुझे मिल जाता है। उसको देखने के बाद मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसके गाल पर एक जोरदार थप्पड़ जड़ दिया। थप्पड़ जड़ने के बाद उसे बुरा-भला कहने लगा। मैंने कहा – कल ईशा के घर आकर उससे माफी मांग लेना। मेरे इतना कहने के बाद वह लड़का हां में सिर हिला देता है।

उसके बाद मैं वहां से अपने घर के लिए आ जाता हूं और अगले दिन उस लड़के का इंतजार करता हूं। इंतजार करते हुए मुझे दोपहर हो गई थी तभी मुझे वह लड़का आता हुआ दिखाई देता है। उसके बाद मैं ईशा को आवाज देकर बाहर आने के लिए कहता हूं। थोड़ी देर बाद ऐसा बाहर आ जाती है और वह लड़का उससे माफी मांगने लगता है। ईशा उस लड़के को मेरे कहने पर माफ कर देती है।

उस लड़के का चेहरा बहुत उदास लग रहा था। लड़के को उदास देख कर मुझे काफी दया आ रही थी इसलिए मैंने उसे अपने पास बैठाया। काफी देर मेरे और उस लड़के के बीच बातचीत हुई। उसके बाद मैंने उस लड़के को समझाया कि अगर कोई भी व्यक्ति हमारी मां बहन के साथ इस तरह की हरकत करे तो क्या हम चुप रह सकते हैं। इसलिए आपको इस तरह की हरकतें कभी नहीं करनी चाहिए। वह लड़का हां में सिर हिलाते हुए सिर्फ मेरी बातें ही सुन रहा था।  Best Hindi Romantic Love Story

उसके बाद मैंने उस अनजान लड़के हो अपना दोस्त बना लिया। उस लड़के को मैंने देखा तो ऐसा लगा कि मैं अपने आप से बहुत शर्मिंदा है और इसी वजह से मैंने उसे अपना दोस्त बनाया था। इधर मैं और ईशा कहीं भी जाते तो दोनों एक साथ जाते थे। एक दिन मैंने ईशा को प्रपोज कर दिया लेकिन उसने मुझे कुछ भी जवाब नहीं दिया। अगले दिन मैंने ईशा से जवाब मांगा तो उसने मुझे एक थप्पड़ मारा और कहा – केवल आई लव यू कहने में तुमने कितना समय लगा दिया। उसकी इस बात को सुनकर मुझे ऐसा लगा कि वह मुझे पहले से ही पसंद करती है।

धीरे-धीरे व्हाट्सएप पर रोमांटिक बातें करने लगे। ईशा के द्वारा मेरे प्यार के प्रपोजल को स्वीकार करने के बाद मैं उसे कई बार घुमाने ले गया। जब हम दोनों एक साथ घूमने गए तब हमने वहां पर खूब रोमांस किया था। ईशा अपने दिल से मुझे अपना पति मानने लग गई थी। वह मेरे बिना एक पल भी नहीं रहती थी। शाम के समय हम एक साथ बैठकर बातचीत करते थे।

एक दिन ऐसा हुआ कि मेरी और ईशा की मां किसी काम की वजह से बाहर गई हुई थी। मेरी छोटी बहन पढ़ने के स्कूल गई थी। उस दिन घर पर केवल मैं और ईशा ही थे। मैं हमारे घर उसकी गोद में बैठ कर रोमांटिक बातें कर रहा था। उस समय हम दोनों एक दूसरे से काफी हंसी मजाक कर रहे थे। तभी अचानक मेरी छोटी बहन सुलेखा आ जाती है और हम दोनों को एक दूसरे की गोद में देख लेती है।  Best Hindi Romantic Love Story

हम दोनों को इस तरह से देख कर वह समझ गई थी कि मैं और ईशा एक दूसरे से प्यार करते हैं। सुलेखा के आते ही ईशा अपने घर चली जाती है। मैं सुलेखा को मां से कुछ भी नहीं कहने के लिए कहता हूं लेकिन वह मेरी मां को सब कुछ बता देती है। उसके बाद मैं कुछ दिनों के लिए अपने दोस्त के पास चला जाता हूं क्योंकि मैं अच्छी तरह से जानता था कि मेरी मां मुझे जरूर डाटेंगी।

चार-पांच दिन अपने दोस्त के पास रुकने के बाद मेरी छोटी बहन ने मुझे कॉल करके बताया कि मां ने ईशा की मां से तुम दोनों की शादी के बारे में बातचीत की थी। इस बीच ईशा ने अपनी मां को भी सब कुछ बता दिया था। ईशा की मां ने एक सप्ताह का समय मांगा। उसके बाद मैं अपने दोस्त के वहां से अपने घर आ जाता हूं लेकिन अब मैं केवल अपने कमरे के अंदर ही रहता था। Hindi Romantic Love Story

कुछ ही दिनों में ईशा की मां अपने पति (ईशा के पिताजी) से बात करके हमारे प्यार के बारे में सब कुछ बता दिया था। ईशा की मां के समझाने के बाद ईशा के पिताजी भी हमारी शादी के लिए मान गए। जब मुझे इस बात का पता चला तो मैं बहुत खुश हुआ। उसके बाद मेरी मां ने मुझसे कहा – आदित्य कुछ ही दिनों में तुम्हारी और ईशा की शादी होने वाली है। बेटा, कम से कम ईशा के बारे में मुझे तो बता देता।

मैंने कहा – मां उचित समय देखकर मैं सब कुछ बताने वाला था लेकिन उससे पहले ही सुलेखा ने बता दिया।  Best Hindi Romantic Love Story

अगले दिन जब मैं अपने पिताजी से मिलने रेलवे स्टेशन गया तो पिताजी ने मुझसे ईशा के बारे में पूछा था। पिताजी ने जब ईशा के बारे में बातचीत की तो मुझे काफी शर्म आई लेकिन अपने प्यार को बचाने के लिए सब कुछ बताना पड़ा। लगभग 2 सप्ताह बाद मेरे और ईशा के पिताजी आपस में मिलकर बातचीत करते हैं। बातचीत के दौरान मेरी और ईशा की शादी के लिए एक पंडित बुलाकर अच्छा सा मुहूर्त तय करते हैं।

शादी की तारीख तय हो जाने के बाद मेरा और ईशा का पूरा परिवार को एक साथ शॉपिंग करने के लिए जाते हैं। अब हम दोनों को किसी से भी डरने की जरूरत नहीं थी क्योंकि कुछ ही दिनों में हमारी शादी होने वाली थी। धीरे-धीरे विवाह की तारीख भी नजदीक आती गई और हमारे घर मेहमान आना शुरू हो गए। शादी वाले दिन चारों ओर रोशनी की चकाचौंध हो रही थी। इस तरह के माहौल को देखकर मैं और ईशा बहुत खुश थे। Hindi Romantic Love Story

शादी का पूरा प्रोग्राम एक मैरिज होम में रखा गया था। मैंने पापा से कार की चाबी मांगी ताकि मैं और ईशा एक साथ मैरिज गार्डन पहुंच सके। सब लोग चले जाने के बाद मैंने ईशा को अपने गले से लगा लिया और कहा – दुनिया में मैं ही एक खुशनसीब इंसान हूं जिसे एक साथ दो खुशियां मिली है। तभी ईशा ने मुझसे पूछा – हमारी शादी के अलावा दूसरी खुशी कौन सी है जरा मुझे तो बताइए।  Best Hindi Romantic Love Story

मैंने कहा – लगभग 2 माह पहले मैंने बैंक की नौकरी की परीक्षा दी थी, जिसमें पास हो गया हूं।

उसके बाद हम दोनों बातचीत करते हुए कार से मैरिज होम पहुंच जाते हैं। वहां पर जाने के बाद मैं अपने कमरे में चला जाता हूं और ईशा अपने कमरे में चली जाती है। अच्छी तरीके से तैयार होने के बाद हम दोनों मंडप के नीचे आकर बैठ जाते हैं। कुछ ही देर बाद हमारी शादी की रस्में शुरू हो जाती हैं। पंडित मंत्रों का उच्चारण करके हमारी शादी संपन्न करा देता है और हम दोनों अग्नि के सात फेरे लेकर एक दूसरे को पति पत्नी के रूप में स्वीकार कर लेते हैं। Hindi Romantic Love Story

शादी हो जाने के बाद मैं एक बार ईशा से मिलना चाहता था लेकिन ईशा अपनी सहेलियों के पास बैठी हुई थी। तभी मैं ईशा को कॉल करके मेरे कमरे के अंदर आने के लिए कहता हूं। थोड़ी देर ईशा मेरे पास आ जाती है। उसे शादी के जोड़े में देखकर ऐसे लग रहा था मानो कोई अप्सरा मेरे सामने खड़ी हो। मैं बिना बोले सिर्फ ईशा को ही देखे जा रहा था। उस दिन मैंने लगभग आधे घंटे तक ईशा को अपने पास बैठा कर रखा और बातें करते रहे।  Best Hindi Romantic Love Story

मैंने कभी जीवन में भी नहीं सोचा था कि पहली बार बाजार में मुलाकात करने वाली लड़की से शादी करूंगा लेकिन अगर मेरी बहन सुलेखा हमारे प्यार के बारे में मेरी मां को नहीं बताती तो शायद हमारी शादी होने में कुछ समय लग जाता। मैं अपनी छोटी बहन को दिल से धन्यवाद देता हूं जिसकी वजह से मैं और ईशा आज एक दूसरे के साथ है। मेरी बैंक में नौकरी लग जाने की वजह से मुझे दूसरे शहर जाना पड़ा।

शहर में नया होने की वजह से मैं ईशा को अपने साथ नहीं लाया था। ईशा साथ नहीं होने के कारण मुझे एक महीना 1 वर्ष की तरह लग रहा था। उस एक महीने में एक दिन भी ऐसा नहीं रहा जिस दिन ईशा ने मुझे व्हाट्सएप पर विडियो कॉल ना किया हो। व्हाट्सएप पर वीडियो कॉल करके जब तक ऐसा मुझे नहीं देख लेती उसे चैन नहीं आता था। जब मैंने शहर के माहौल के बारे में अच्छी तरह से जान लिया तो ईशा को भी अपने साथ लेकर आ गया। आज भी उसे मेरी इतनी फिक्र रहती है कि जब मैं समय पर घर नहीं पहुंचता हूं तो मुझे बार-बार कॉल करने लगती है। Hindi Romantic Love Story

Also Read- सच्चे प्यार की एक दास्तान – Best Hindi Heart Touching Love Story 

सच्चा वाला प्यार” रोमांटिक लव स्टोरी | Romantic Love Story in Hindi To Read

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles