बेवफा लव स्टोरी इन हिंदी | Bewafa Ladki Love Story in Hindi

बेवफा लव स्टोरी इन हिंदी | Bewafa Ladki Love Story in Hindi – दोस्तों यह लव स्टोरी की कहानी उस समय की है जब मैं अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए शहर गया हुआ था और वहां पर किराए के कमरे पर रहता था। मैं जिस मकान में रहता था उस मकान मालिक का बेटा दूसरे शहर में रहकर अपनी पढ़ाई पूरी कर रहा था। मेरे मकान मालिक के साथ मेरी काफी अच्छी बनती थी अगर उनको कोई भी काम होता था तो मुझसे ही बोला करते थे।

बेवफा लव स्टोरी इन हिंदी | Bewafa Ladki Love Story in Hindi –

एक दिन में जैसे ही कोचिंग क्लास से बाहर निकला तभी मुझे मकान मालकिन ने कॉल करके बताया कि उनकी बेटी स्टेशन पर आने वाली है और मैं उसे घर लेकर आऊं। मैं कोचिंग क्लासेज से ही सीधे आयशा को लेने के लिए रेलवे स्टेशन पहुंच जाता हूं। मैंने अपनी गाड़ी को पार्किंग में लगाया और प्लेटफार्म पर उसका इंतजार करने लगा। मैं आयशा को नहीं जानता था लेकिन मकान मालकिन ने उसे मेरा मोबाइल नंबर दे दिया था। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

कुछ देर इंतजार करने के बाद ट्रेन प्लेटफार्म पर आकर रूकती है। आयशा ने ट्रेन से उतरने के बाद मुझे कॉल करके पूछा – कहां हो?
मैंने कहा – आप कॉल करते हुए बाहर निकलो, मैं आपको पहचान लूंगा। जैसे ही मैंने आयशा को देखा तो देखता ही रह गया क्योंकि उस समय वह नीले रंग का जींस और पीले रंग का टीशर्ट पहने हुई थी। सच कहूं तो वह मुझे किसी अभिनेत्री से कम नहीं लग रही थी। मुझे तो पहली नजर में ही उस से प्यार हो गया था। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

मैंने वहां से आयशा का सामान उठाया और गाड़ी के पास ले गया। फिर मैं उसे लेकर मकान पर पहुंच गया और उसका सामान आंटी को देकर अपने कमरे में चला गया। मुझे काफी भूख लग रही थी क्योंकि मैं सुबह जल्दी ही कोचिंग चला जाता था और आने के बाद ही खाना खाता था। लेकिन आज आयशा को स्टेशन लेने पहुंचने की वजह से देर हो गई थी।

थोड़ी देर बाद आंटी मेरे पास आ जाती है और साथ में खाना खाने के लिए कहती हैं। मैं अपने हाथ मुंह धोकर टेबल पर जाकर बैठ जाता हूं। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

कुछ देर बाद आयशा की मां खाना लेकर आती है। आयशा और मैं एक साथ बैठकर खाना खा रहे थे। तभी आंटी मेरे बारे में आयशा को सब कुछ बता रही थी। खाना खाते समय आयशा मेरी ओर देखकर मुस्कुरा रही थी। मैंने इस मौके का फायदा उठाकर उससे बातचीत करना शुरू कर दिया। मैंने पूछा – आप कितने दिन यहां रुकने वाली हो? आयशा – लगभग तीन-चार महीने मम्मी पापा के पास रुकने का विचार है, लेकिन अगर आपको परेशानी हो तो मैं वापस जा सकती हूं।

मैं – मुझे कैसी परेशानी होगी। यह मकान आपका ही तो है आप चाहे जितना रुक सकती हो।

इस तरह हम दोनों के बीच काफी देर तक बातचीत होती रही और बातों ही बातों में दोस्ती हो गई।

एक दिन में सुबह जल्दी ही नहाने के लिए चला गया तब मुझे पता नहीं था कि बाथरूम के अंदर पहले से ही कोई स्नान कर रहा है। लेकिन आपको बता दूं कि बाथरूम के अंदर दो और बाथरूम थे। मैं पहले वाले बाथरूम के अंदर नहा रहा था तभी मुझे पास वाले बाथरूम से किसी के गुनगुना की आवाज आई। तब मैंने सोचा कि शायद आंटी स्नान कर रही है।

कुछ देर बाद जैसे ही मैंने बाथरूम का गेट खोला तभी आयशा बाथरूम से बाहर आई, तब मुझे पता चला कि बाथरूम के अंदर आयशा स्नान कर रही थी। उस समय आयशा को देखकर मैं पूरी तरह से उसका दीवाना हो गया था। उसके खुले हुए बाल कमर तक बल खा रहे थे। तभी मैंने आयशा से कहा – आप गुनगुनाने की आवाज काफी सुरीली है और आपको सिंगर बनना चाहिए।

आयशा – वह तो मैं वैसे ही गुनगुना रही थी। बातें करते समय हम दोनों एक दूसरे से हंसी मजाक करने लगे। आयशा मेरी किसी भी बात से बिल्कुल भी नाराज नहीं होती थी। मैं आयशा के काफी करीब जाना चाहता था लेकिन कहने से डरता था। एक दिन में रात के समय पढ़ाई कर रहा था तभी मुझे व्हाट्सएप पर मैसेज आने की आवाज सुनाई दी, लेकिन मैंने मैसेज की ओर ध्यान नहीं दिया और अपनी पढ़ाई पर लग रहा है। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

कुछ ही देर बाद मुझे एक और मैसेज आने की आवाज सुनाई दी। मैंने सोचा किसी को कोई काम है इसलिए बार-बार मैसेज कर रहा है। जैसे ही मैंने व्हाट्सएप खोला तो मुझे पता चला कि मैसेज आयशा कर रही थी। जवाब में मैंने आशा को मैसेज कर दिया और कहा – आज अचानक इतनी रात को हमारी याद कैसे आ रही है।

आयशा – मुझे नींद नहीं आ रही थी इसलिए तुम्हारे पास मैसेज किया था।
हम दोनों अब रात के समय व्हाट्सएप पर ही बातें किया करते थे। एक दिन आयशा ने मैसेज करके पूछा – क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?
मैं – नहीं है! आज तक ऐसी कोई लड़की मिली ही नहीं जो मेरे दिल को पसंद आए।
आयशा – क्या सीधे शादी करने का ही विचार है? प्यार-व्यार के चक्कर में नहीं पड़ना है क्या?

मैं – क्या! तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है?
आयशा – नहीं है! आज तक कोई सच्चा प्यार करने वाला लड़का मिला ही नहीं?
आयशा की इस बात को सुनकर मैं काफी खुश हुआ कि उसका कोई बॉयफ्रेंड नहीं है। अब मेरा रास्ता और भी आसान हो गया था।
आयशा ने कहा – तुम्हें कैसी लड़की चाहिए?
मैं – बिल्कुल तुम्हारे जैसी खूबसूरत लड़की चाहिए।
आयशा – क्या तुम्हें मैं बहुत खूबसूरत दिखती हूं? इसका मतलब तुम मुझे पसंद करते हो? Bewafa Ladki Love Story in Hindi

इस बात को सुनकर मैं बिल्कुल चुप हो गया और उसके मैसेज का जवाब देना बंद कर दिया। आयशा मुझे बार-बार पूछ रही थी लेकिन ‘हां’ में जवाब देने में मुझे काफी डर लग रहा था। तभी उसने कहा – तुम्हें मेरी कसम है सच बताना क्या मैं तुम्हें पसंद हूं।

मैंने कहा – हां बहुत पसंद हो! पहली बार देखा था तब से ही तुम्हें प्यार करता हूं।

थोड़ी देर बाद उसने पूछा – क्या पसंद आया है मुझमें?

मैंने कहा – तुम्हारे होंठ और मासूम सा चेहरा बहुत पसंद है। तभी उसने मुझे कहा – इतनी तारीफ मत करो मुझे शर्म आ रही है। मैंने कहा – क्या तुम भी मुझसे प्यार करती हो?

कुछ देर बाद आयशा ने जवाब दिया – हां! काफी होनहार लड़के हो। मेरे मम्मी पापा का दिल पहले ही जीत रखा है।

इस तरह हम दोनों के बीच प्यार भरी बातें शुरू हो गई थी। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

आयशा देर रात तक मेरे ही कमरे में बैठी रहती थी। धीरे-धीरे हम दोनों की मुलाकात और बढ़ती गई और अब हम सूर्यास्त के समय मकान की छत पर मिलते थे। मुझे उसके बिना एक पल भी जीना बहुत मुश्किल लगता था। कभी-कभी मैं आयशा के बिल्कुल करीब जाकर उसके बालों को सहला देता था। आयशा और मैं एक-दूसरे से बहुत प्यार करते थे।

हम दोनों एक दूसरे के बिना नहीं रहना चाहते थे। वह मेरे गांव जाने पर काफी नाराज हो जाती थी और मुझे कई बार कॉल करके वापस बुलाने की जिद करती रहती थी। लगभग एक-दो बार तो मैं आयशा को अपने साथ गांव ले आया था। लेकिन गांव आने की वजह से एक दिन ऐसा आया जिसने मेरे प्यार को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया। क्योंकि मैं और आयशा हमारे खेतों में घूमने गए हुए थे। तभी मेरे गांव का ही एक लड़का जो मेरा दोस्त था, आयशा के साथ बदतमीजी करने लगता है।

मुझे काफी गुस्सा आ गया और मैंने उस लड़के के साथ मारपीट कर दी। वह गुस्से में होकर वहां से चला गया। Bewafa Ladki Love Story in Hindi अगले ही दिन हम दोनों शहर के लिए रवाना हो जाते हैं। मैं आंटी के लिए हमारे घर से कुछ घरेलू सामान ले गया था। थोड़ी देर बाद हम दोनों मकान पर पहुंच जाते हैं और आंटी के साथ बैठकर बातचीत करने लगते हैं। कुछ ही देर में अंकल भी वहां पर आ जाते हैं और मुझे बाजार जाने के लिए कहते है। मैं जल्दबाजी में अपना मोबाइल फोन कमरे के अंदर ही छोड़ जाता हूं और बाजार चला जाता हूं।

तभी मेरे मोबाइल नंबर पर किसी लड़की का कॉल आता है और वह कॉल आयशा उठा लेती है। वह लड़की मुझे आई लव यू जान! बोले जा रही थी और बोल रही थी आजकल हम दोनों को मिले हुए काफी दिन हो गए हैं, मैं तुमसे मिलना चाहती हूं। यहां तक कि नहीं उसने आयशा के बारे में भी भला बुरा कहा।

जैसे ही मैं सामान लेकर मकान पर पहुंचा तो मैंने देखा कि आयशा का चेहरा काफी उदास लग रहा था। मैंने इशारों में आयशा को छत के ऊपर आने के लिए कहा और थोड़ी ही देर बाद वह छत के ऊपर आ गई। तभी आयशा ने मुझे उस लड़की की कॉल रिकॉर्डिंग सुनाई तब मुझे पता चला कि उसने कॉल करके क्या कहा था। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

आयशा काफी नाराज हो गई थी और वह मुझसे उस लड़की के बारे में जानना चाहती थी। मैं आयशा को बार-बार समझा रहा था कि मैं इस लड़की को नहीं जानता हूं। किसी ने हम दोनों को दूर करने के लिए यह सब कुछ किया है लेकिन वह ऐसा समझने का नाम ही नहीं ले रही थी। वह इतनी गुस्सा हो गई कि उसने मेरे मोबाइल को दीवार पर देकर तोड़ दिया और नीचे चली गई।

लगभग एक सप्ताह गुजर गया लेकिन आयशा मुझसे बात भी नहीं करना चाहती थी। जब भी मैं उससे बातचीत करने की कोशिश करता था, तब वह हमेशा उस लड़की के बारे में ही जानने की कोशिश करती थी। मैंने उसे कई बार समझाया की वह लड़की मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, ना ही उसे मैं जानता हूं।

आयशा ने पूछा – तो वह लड़की तुम्हारा नाम कैसे जानती थी? मेरे पास आयशा के इन सवालों का कोई भी जवाब नहीं था क्योंकि हकीकत में मैं उस लड़की को बिल्कुल भी नहीं जानता था। आयशा इतनी नाराज हो चुकी थी कि एक दिन जैसे ही मैं कोचिंग से पढ़कर वापस कमरे पर गया तो आयशा ने कहा – इस कमरे को खाली कर देना, यहां पर हमारा रिश्तेदार रहने आएगा। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

मैंने ‘हां’ में अपना सिर हिला दिया और अपने कमरे के अंदर चला गया। थोड़ी देर बाद वह कमरे के अंदर आ जाती है और मुझसे कहती हैं – शायद! आपने सुना नहीं है। मैंने कहा है कि इस कमरे को खाली कर देना है। मैंने कहा – ठीक है, मुझे कुछ समय दीजिए। जैसे ही मुझे नया कमरा मिलेगा मैं यहां से कमरा खाली करके चला जाऊंगा।

उस दिन मैंने आयशा को काफी समझाने की कोशिश की लेकिन वह मेरी बात मानने को बिल्कुल भी तैयार नहीं थी। और किस्मत की बात तो वहां पर थी उस दिन उसके मम्मी पापा भी घर पर नहीं थे। मैंने आयशा के सामने घुटने टेक दिए और कहा – अगर तुम उस बात को सच मानती हो तो मैं उसके लिए तुमसे माफी मांगता हूं। लेकिन मुझे इस तरह से जलील मत करो। मेरी आंखों से आंसू निकल रहे थे लेकिन आयशा ने अपने मुंह से एक शब्द भी नहीं कहा था। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

कुछ ही देर बाद मैं कमरे के अंदर चला जाता हूं और बैठ कर रोने लगता हूं लेकिन दीवारों के अलावा मेरे रोने की आवाज को कोई भी नहीं सुन रहा था। मुझे कमरे के अंदर ही शाम हो गई थी लेकिन मैं बाहर निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था। लगभग दो दिन गुजर गए थे मैं सोच रहा था कि अब आयशा का गुस्सा भी शांत हो गया होगा। आयशा छत पर टहल रही थी मैं भी छत के ऊपर चला गया और उससे माफी मांगने लगा।

मैं आयशा से माफी मांगकर बातचीत कर रहा था। तभी वह मुझे गाल पर एक चांटा मार देती और कहती हैं – क्या तुम्हें शर्म नहीं आती है जो बार-बार मेरे सामने आ जाते हो। लेकिन तुम जैसे लोगों को शर्म कहां आती हैं अगर आती तो कब का यहां से चले गए होते। आयशा की इस बात को सुनकर मुझे काफी गुस्सा आ गया और मैंने एक चाटा उसके गाल पर जड़ दिया। मैंने सोच लिया था कि शायद अब हम दोनों जीवन में दोबारा नहीं मिल पाएंगे। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

अगले ही दिन मैंने अपना सामान इकट्ठा किया और वहां से रवाना हो गया। उसके घर से लगभग 500 मीटर दूर मैंने अपना कमरा लिया था। काफी दिन गुजर गए वह मुझे पूरी तरह से भूल चुकी थी लेकिन मैं उसका इंतजार ही करता रहा। लगभग 2 माह बाद जब मुझे सच्चाई का पता चला की है सब कुछ मेरे एक दोस्त ने करवाया था और यह वही दोस्त था जिसको मैंने आयशा की वजह से पीटा था। इस सच्चाई को जान कर मुझे अपने दोस्त पर काफी गुस्सा आया था लेकिन कुछ भी नहीं कर पाया।

धीरे-धीरे समय गुजरता गया और मैंने भी आयशा को भुलाना शुरू कर दिया था। लेकिन जब भी कोई मुझसे सच्चे प्यार के बारे में पूछता है तो मुझे आयशा ही याद आती है, क्योंकि मैंने अपने जीवन में सिर्फ आयशा से ही सच्चा प्यार किया था। आज भी जब मुझे उस लड़की की याद आती है तो मैं अकेले में बैठ कर रोने लग जाता हूं।

दोस्तों, इंसान अपने जीवन में सब कुछ आसानी से भुला सकता है लेकिन एक सच्चे प्यार को भूल पाना बहुत मुश्किल होता है। कड़वा सच तो यह है कि आज के इस जमाने में सच्चे प्यार की कोई भी कीमत नहीं है बल्कि उसे गलत नजरों से देखा जाता है। Bewafa Ladki Love Story in Hindi

दोस्तों अगर आपको बेवफा लव स्टोरी इन हिंदी | Bewafa Ladki Love Story in Hindi पसंद आई हो तो कमेंट करके जरूर बताएं और अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। अगर लिखने में मुझसे कहीं गलती हो गई हो तो मैं आपसे माफी मांगता हूं।

Read More – Best Real Life Love Story In Hindi | रियल रोमांटिक लव स्टोरी

दर्द भरी प्रेम कहानी | Emotional Pyar ki Kahani

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles