सैड इमोशनल लव स्टोरी | Very Emotional Sad Love Story in Hindi - आज के इस लेख में मैं आपको एक ऐसी इमोशनल लव स्टोरी के बारे में बताऊंगा जिसको पढ़ कर आपकी आंखों में आंसू आ जाएंगे। मुझे उम्मीद है कि आप इस लवस्टोरी को अंत तक जरूर पढ़ेंगे। 

Very Emotional Sad Love Story in Hindi -

मेरे दोस्त अमित की लव स्टोरी की शुरुआत कॉलेज से हुई थी। कॉलेज के दिनों में अमित को दिव्यांशी नाम की एक लड़की पसंद करती थी। अमित के कॉलेज अध्यक्ष बनने के बाद दिव्यांशी ने प्रपोज कर दिया था। उसके बाद दोनों खुलकर कॉलेज में एक-दूसरे से मिलने लगे। धीरे-धीरे उनका प्यार इतना गहरा हो गया कि एक दूसरे से बिछड़ने का मन ही नहीं करता था। प्यार के साथ-साथ दोनों पढ़ाई में भी बहुत अच्छे और काफी तेज थे। Very Emotional Sad Love Story in Hindi

जब तक कॉलेज की पढ़ाई चली तब तक दोनों ने खूब रोमांस किया था। कॉलेज की पढ़ाई खत्म होने के बाद अमित को एक बैंक में जॉब मिल गई थी जबकि दिव्यांशी आगे की पढ़ाई जारी रखती है। दोनों एक ही शहर के होने की वजह से शाम के समय एक दूसरे से मिलना बिल्कुल भी नहीं भूलते थे। दोनों एक दूसरे शादी करना चाहते थे इसलिए एक-दूसरे के बारे में परिवार वालों को बताना जरूरी समझा।

कॉलेज के दिनों में दोनों ने एक दूसरे के साथ रहने की कसमें भी खाई और वादे भी किए थे। अमित और दिव्यांशी उम्र भर एक दूसरे के साथ रहना चाहते थे लेकिन अपने परिवार वालों की सहमति के बाद ही शादी करना चाहते थे। दोनों अपने जीवन को खुल कर जीना चाहते थे। अमित और दिव्यांशी के जीवन में कुछ भी होता तो दोनों एक दूसरे को बताना जरूरी समझते थे। सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था लेकिन दोनों की किस्मत में कुछ और ही लिखा था। Very Emotional Sad Love Story in Hindi

एक दिन अमित दिव्यांशी को अपने साथ घर ले गया और अपनी मां से मिलवा दिया। उसके बाद दिव्यांशी ने अमित की मां को एक-दूसरे के प्यार के बारे में सब कुछ बता दिया। अमित की मां भी दिव्यांशी को अपनी बहू के रूप में देखना चाहती थी। इसलिए अमित की मां ने अपने पति को दिव्यांशी के घर जाकर रिश्ता तय करने की बात कही। इधर दिव्यांशी ने पहले ही अपने घर वालों को अमित के बारे में बता रखा था।

एक दिन अमित की मां रसोई में खाना बना रही थी तभी दिव्यांशी के माता-पिता पहुंच जाते हैं। अमित की मां ने उनको आदर के साथ अपने घर में बैठाया और चाय पीने के लिए भी कहा। उसके बाद अमित की मां फिर से रसोई घर में चाय बनाने के लिए चली जाती है। थोड़ी देर बाद अमित के पिताजी भी घर पहुंच जाते हैं। उसके बाद उनके बीच कुछ देर इधर-उधर की बातें होती है और बाद में अमित और दिव्यांशी के रिश्ते की बात शुरू कर दी जाती है। Very Emotional Sad Love Story in Hindi

बहुत देर तक बातें करने के बाद अमित और दिव्यांशी का रिश्ता तय कर दिया जाता है। दिव्यांशी के पिता जी ने कहा कुछ ही दिनों में पंडित को घर बुलवाकर दोनों की शादी के लिए एक अच्छा सा मुहूर्त निकलवा लेंगे। इतनी बातचीत हो जाने के बाद दिव्यांशी के माता-पिता अपने घर के लिए रवाना हो जाते हैं। एक माह बाद दोनों की शादी हो जाती है। अब दिव्यांशी हमेशा के लिए अमित की हो चुकी थी और अमित भी दिव्यांशी को अपनी पत्नी के रूप में पाकर बहुत खुश हो रहा था। 

एक दिन अमित घर से तैयार होकर बैंक के लिए अपनी बाइक से जा रहा था तभी उसका रोड एक्सीडेंट हो जाता है। उस रोड एक्सीडेंट में अमित पूरी तरह से घायल हो गया था। अमित को एक प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। अमित के घरवालों को डॉक्टर ने बताया कि अमित की याददाश्त चली गई है। वह अब किसी को भी नहीं पहचानता है। जब दिव्यांशी को इस बारे में पता चला तो वह जोर-जोर से रोने लगती है। जब दिव्यांशी अमित को जाकर देखा तो वह बेहोश होकर गिर जाती है। Very Emotional Sad Love Story in Hindi

लगभग दो-तीन महीने तक हॉस्पिटल में इलाज कराने के बाद अमित को घर भेज दिया जाता है लेकिन सभी के लिए एक बच्चा बन गया था। वह अपने प्यार के साथ पुरानी बातों को भी भूल चुका था। दिव्यांशी किसी भी कीमत का अमित को खोना नहीं चाहती थी इसलिए वह हमेशा अमित के साथ रहने लग गई। एक पल के लिए भी अमित को अकेला नहीं छोड़ती थी। दिव्यांशी को अपने प्यार के ऊपर पूरा विश्वास था इसलिए वह हमेशा उसकी याददाश्त वापस आने का इंतजार करते रहती थी। 

समय गुजरने के साथ-साथ अमित को 6 माह बीत गए थे लेकिन किसी को भी नहीं पहचान पा रहा था। रोजाना दवाई लेने की वजह से अमित बहुत देर तक सोता रहता था। एक दिन अमित गहरी नींद में सो रहा था तभी दिव्यांशी अमित के पास आकर रोने लगती है और अपने हाथ में अमित का हाथ लेकर बेड पर बैठ जाती है। तभी वह अमित को अपने प्यार की कहानी सुनाती है लेकिन अमित कुछ भी याद नहीं कर पाता है। दिव्यांशी रोजाना अमित को दोनों के प्यार की कहानी सुनाती और रोने लग जाती थी। Very Emotional Sad Love Story in Hindi

अमित की पत्नी सहित पूरे घर वालों ने सोच लिया था कि शायद अमित कभी भी जीवन में किसी को भी नहीं पहचान सकेगा। सब लोगों ने उम्मीद छोड़ दी थी। एक दिन की बात है जब अमित के घर वाले किसी काम की वजह से बाहर गए हुए थे, उस समय घर में कोई भी नहीं था। अमित अपने बेड पर ले रहा था तभी एक लड़का वहां पहुंच जाता है। वह लड़का कोई और नहीं अमित का दोस्त निखिल था। 

अमित और निखिल कॉलेज के समय दोनों एक दूसरे के अच्छे दोस्त थे लेकिन दिव्यांशी से गलत तरीके से बात करने के कारण इन दोनों के बीच झगड़ा हो गया था। कॉलेज के दिनों में निखिल भी दिव्यांशी को पसंद करता था। निखिल अमित के पास कुर्सी लगाकर बैठ जाता है और कहने लगता है - कैसे हो अमित। अमित सिर्फ निखिल को देखे जा रहा था लेकिन कुछ भी नहीं कह रहा था। Very Emotional Sad Love Story in Hindi

उसके बाद निखिल ने कहा - क्या तुम्हें वह दिन याद है जब तुम्हारा एक्सीडेंट हुआ था। इतना कहने के बाद ताली देकर जोर से हंसने लगता है। फिर निखिल कहता है - लेकिन तुम्हें याद कैसे रहेगा तुम्हारे तो याददाश्त जा चुकी है। चलो मैं ही बता देता हूं। कॉलेज के वो दिन याद है जब तुमने मुझे दिव्यांशी के लिए कॉलेज में सबके सामने चांटा मारा था। उस दिन में बहुत जलील हुआ था। मैं भी दिव्यांशी को पसंद करता था लेकिन वह भी तुमसे प्यार करती थी। मैं नहीं चाहता था कि तुम और दिव्यांशी एक दूसरे के साथ रहो। 

अमित के घर वाले भी आ चुके थे लेकिन इस बात की जानकारी निखिल को नहीं थी। दिव्यांशी खिड़की से निखिल का वीडियो बना रही थी। इतना सुनने के बाद अमित की आंखों से आंसू निकलने लगते हैं। इसके बाद निखिल कहता है - मैं तुम्हें इस तरह बेड पर लेटे देखना चाहता था इसलिए मैंने अपनी कार से तुम्हारी बाइक को पीछे से टक्कर मारी थी। तुम्हें इस तरह देख कर आज मैं बहुत खुश हूं। उसके बाद निखिल अमित के गाल थपथपा ने के लिए आगे बढ़ता है तो अमित निखिल का शर्ट पकड़ लेता है। Very Emotional Sad Love Story in Hindi

शर्ट पकड़ने के बाद निखिल छुड़ाकर भागने लगता है लेकिन दिव्यांशी बाहर से दरवाजा बंद कर देती है। उसके बाद दिव्यांशु पुलिस स्टेशन में कॉल करके पुलिस बुला लेती है और पुलिस अधिकारी को शूट किया गया वीडियो दिखा देती है। पुलिस निखिल को अपनी गाड़ी में बैठा कर पुलिस स्टेशन ले जाते हैं। उसके बाद अमित को दिव्यांशी अपने गले से लगा लेती है और कहती है - अमित, मुझे पहचानो मैं तुम्हारी दिव्यांशी हूं। फिर दिव्यांशी अपनी कार में बैठाकर अमित को हॉस्पिटल ले जाती है और डॉक्टर से याददाश्त आने की बात कहती है। 

हॉस्पिटल के डॉक्टर अमित को पुरानी बात याद दिलाने के लिए कॉलेज की बातें करने लगते हैं। धीरे-धीरे अमित दिव्यांशी को पहचानने लगता है। दो-तीन दिन तक अस्पताल में भर्ती रहने के बाद अमित पूरी तरह से पहले जैसा हो चुका था। लेकिन डॉक्टरों ने दिव्यांशी को बताया था कि कुछ दिनों तक अमित के दिमाग के ऊपर किसी भी बात का प्रेशर नहीं होना चाहिए। लगभग 3 महीने बाद अमित पूरी तरह से ठीक हो चुका था। Very Emotional Sad Love Story in Hindi

अब फिर से दिव्यांशी के जीवन में पहले जैसी खुशियां आ गई थी। अमित के ठीक होने की खुशी में दिव्यांशी में अपने घर में एक बहुत बड़ा फंक्शन रखा था जिसमें पड़ोस के सभी लोगों को निमंत्रण दिया था। क्योंकि दिव्यांशी मानती थी कि अमित का फिर से एक नया जीवन है। उसके बाद दोनों के बीच वही प्यार शुरू हो जाता है। आज अमित और दिव्यांशी अपने जीवन में बहुत खुश है। किसी ने सच ही कहा है अगर प्यार सच्चे दिल से किया है तो वह उम्र भर साथ जरूर देगा। 

दोस्तों अगर आपको अमित और दिव्यांशी की यह Very Emotional Sad Love Story in Hindi अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना बिल्कुल भी ना भूले और हमें कमेंट करके जरूर बताएं। इस प्रकार की नई प्रेम कहानी पढ़ने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे। 

यह भी पढ़ें - सैड लव स्टोरी हिंदी | Very Sad Heart Touching Hindi Love Story

Most Romantic Love Story in Hindi