गर्मियों के दिनों में शरीर में पानी की कमी को कैसे पूरा करें - फिलहाल हमारे देश में गर्मियों का सीजन शुरू हो गया है। गर्मियों के दिनों में हमारे देश में तापमान लगभग 56 डिग्री तक पहुंच जाता है। बढ़ते हुए तापमान की वजह से हमारे शरीर में कई बार पानी की कमी आ जाती है। जिसकी वजह से हमें कई प्रकार की बीमारियां होने की संभावना हो जाती है। शरीर में पानी की कमी हो जाने की वजह से हमें कई प्रकार की कठिनाइयों का भी सामना करना पड़ सकता है। इसलिए आज की यह पोस्ट आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इस पोस्ट में आपको विस्तार से बताया गया है।

गर्मियों के दिनों में शरीर में पानी की कमी को कैसे पूरा करें -

गर्मियों के दिनों में शरीर का ख्याल रखना बहुत जरूरी होता है। इस मौसम में अच्छा खानपान खाने के साथ पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। गर्मियों का मौसम आते ही लोगों को कई तरह की शारीरिक बीमारियां होने लग जाती है। गर्मियों के दिनों में उन पर पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो हमारे शरीर में पानी की कमी को पूरा कर सकें। गर्मियों में घड़े का ठंडा पानी हमारे शरीर के लिए सबसे अधिक फायदेमंद होता है। फ्रिज में रखे हुए ठंडे पानी को पीने से बार-बार प्यास लगने लगती है और कभी-कभी फ्रिज का ठंडा पानी पीने से गले में दर्द होने लग जाता है। 

गर्मियों के मौसम में संतरे और तरबूज बाजार में उपलब्ध हो जाते हैं। जब भी व्यक्ति को लगेगी उसके शरीर में पानी की कमी आ गई है तो उसे तरबूज और संतरे का सेवन करना चाहिए। तरबूज का सेवन सामान्य मात्रा में करना चाहिए। यह दोनों ही हमारे शरीर में पानी की मात्रा को बढ़ाते हैं और शरीर के तापमान का संतुलन बनाए रखते हैं। गर्मियों के दिनों में लंबे सफर से आने के तुरंत बाद कभी भी पानी नहीं पीना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से आपके गले और पेट में दर्द होने लग जाता है। 

इंसान के शरीर के वजन के अनुसार उसे पानी की जरूरत पड़ती है। अगर किसी इंसान का वजन 40 किलो के आसपास होता है तो उसे लगभग 2 लीटर पानी की जरूरत होती है। शरीर को पूर्ण रूप से स्वस्थ रखने के लिए पानी पीना भी बहुत जरूरी होता है। मानव शरीर में लगभग 65 से 70% तक पानी होता है। जिस तरह हमारे शरीर को ऊर्जा के लिए भोजन की जरूरत होती है। ठीक उसी प्रकार पानी भी हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण पदार्थ है।

साफ पानी हमारे शरीर में एनर्जी (शक्ति) बढ़ाने का काम करता है। शरीर में पानी की कमी अधिक आ जाने के कारण काफी लोग कई तरह की बीमारियों के शिकार हो जाते हैं और बहुत कमजोर हो जाते हैं। इस बात को हम सभी जानते हैं कि गर्मियों के दिनों में हमारे शरीर को पानी की जरूरत अधिक पड़ती है। गर्मियों के दिनों में शरीर से बार-बार पसीना निकलने लगता है। जिसकी वजह से हमारे शरीर में पानी की कमी आने लग जाती है। 

कभी कभी आपने देखा होगा कि कई लोग काम करने के दौरान बहुत कम पानी पीते हैं। जिसकी वजह से उनके शरीर में पानी की कमी आ जाती है। इसलिए गर्मियों के दिनों में सबसे अधिक पानी पीना चाहिए। अगर शरीर में पानी की कमी अधिक हो जाती है तो उसके लक्षण साफ तौर पर दिखाई देने लगते हैं। अगर आप शरीर में पानी की कमी से होने वाली कठिनाइयों और बीमारियों से बचना चाहते हैं तो गर्मियों के दिनों में अधिक पानी पीना शुरू कीजिए।

जब इंसान के शरीर में पानी की मात्रा जरूरत से कम हो जाती है। तब शरीर के खनिज पदार्थों में गड़बड़ी आने लग जाती है। जिसकी वजह से शरीर में थकावट महसूस होने लगती है। शरीर में पानी की कमी कारण व्यक्ति के अंदर डिहाइड्रेशन होने लग जाता है। मुख्य रूप से डिहाइड्रेशन समय पर पानी न पीने या शरीर में पानी की कमी आ जाने के कारण होता है। डिहाईड्रेशन बच्चे से लेकर बड़े व्यक्तित्व को हो सकता है। जो व्यक्ति क्षमता से अधिक एक्सरसाइज और व्यायाम करते हैं उन्हें भी डिहाइड्रेशन होने की संभावना अधिक रहती है। 

डिहाइड्रेशन का मतलब होता है जितना हम पेय पदार्थ पीते हैं, उससे कहीं अधिक पदार्थ हमारे शरीर से बाहर निकलने लग जाता है। शरीर में पानी की मात्रा सही होने के कारण पाचन तंत्र अच्छी तरह से कार्य करता है तथा विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकलता है। जब किसी व्यक्ति को डिहाईड्रेशन हो जाता है तो चक्कर आने के साथ-साथ अधिक प्यास लगती है। डिहाइड्रेशन के कारण भी व्यक्ति को बहुत कम पेशाब आता है। डिहाइड्रेशन से बचने के लिए व्यक्ति को अधिक मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए और सबसे अधिक मात्रा में पानी का सेवन करना चाहिए। 

जो व्यक्ति गर्मियों के दिनों में अधिक पानी पीता है उसका स्वास्थ्य पूरी तरह से सही रहता है। डिहाइड्रेशन के कारण ही व्यक्ति को सबसे अधिक प्यास लगने लगती है। अगर डिहाईड्रेशन का समय पर किसी अच्छे डॉक्टर से इलाज नहीं करवाया तो गंभीर बीमारियां हो सकती है। डिहाइड्रेशन की वजह से सबसे अधिक मस्तिक से जुड़ी समस्या आने लगती है। कई बार डिहाइड्रेशन के कारण व्यक्ति की मौत हुई हो सकती है। अगर किसी इंसान को डिहाइड्रेशन होने का खतरा है तो उसे अपने खून तथा पेशाब की जांच करवानी चाहिए। 

यह भी पढ़ें - डॉक्टर बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करे 2022 - Doctor Kaise Bane in 2022

खतरनाक हो सकता है डिहाइड्रेशन, जानिए क्या हैं बचने के उपाय