डॉक्टर बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करे – वर्तमान समय में हमारे देश के युवा छात्र अच्छी पढ़ाई करके कुछ बनने की सोचते हैं। स्कूल में पढ़ाई करते समय तय कर लेते हैं कि उन्हें भविष्य कौन सी पढ़ाई करनी है और किस मंजिल तक पहुंचना है। हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि सभी छात्रों के अलग अलग सोच होती है लेकिन वर्तमान समय में अधिकतर बच्चे डॉक्टर बनने की सोचते हैं। 

डॉक्टर बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करे 2022 -

आज के समय में लाखों की तादाद में हमारे देश के छात्र डॉक्टर की तैयारी कर रहे हैं। डॉक्टर बनने के लिए दिमाग तेज होने के साथ-साथ पढ़ाई करना अत्यंत आवश्यक होता है। वैसे तो कई ऐसे छात्र है जो भारतीय सेना, इंजीनियर, आईएएस, आईपीएस आदि बनना चाहते हैं। एक अच्छे और सफल डॉक्टर बनने के लिए बचपन से ही पढ़ाई करनी होती है। जो बच्चे बचपन से ही डॉक्टर बनने का सपना देखते हैं उनको विज्ञान और अंग्रेजी के बारे में अच्छी जानकारी होनी चाहिए।

हम सभी भली-भांति जानते हैं कि भारत देश में वर्तमान समय में साइंस हर तरह से बढ़ता जा रहा है। हमारे देश के बड़े-बड़े वैज्ञानिक प्रतिदिन नई खोज करते रहते हैं। आज के समय में साइंस के पास हर बीमारी का समाधान होता है। उदाहरण के तौर पर बताऊं तो कोरोना जैसी महामारी ने पूरी दुनिया को बिखेर कर रख दिया था लेकिन साइंस की वजह से आज इस महामारी का भी इलाज ढूंढ लिया है। जो छात्र साइंस से अपनी पढ़ाई पूरी करते हैं, उनके लिए डॉक्टर की पढ़ाई का विकल्प चुनना कोई कठिन काम नहीं है।

कक्षा 10 उत्तीर्ण करने के बाद आपको 11वीं एवं 12वीं क्लास के अंदर विज्ञान वर्ग यानी गणित और विज्ञान लेना बहुत जरूरी होता है। विज्ञान वर्ग के बच्चों को अच्छी मेहनत करके बेहतर अंकों के साथ उत्तीर्ण होना होता है। वैसे तो डॉक्टर कई प्रकार के होते हैं लेकिन सबसे अधिक डॉक्टर की पढ़ाई एमबीबीएस की होती है। एक अच्छा डॉक्टर बनने के लिए आपको अंग्रेजी अच्छी तरह से आनी चाहिए और कक्षा 12वीं में हर विषय में सामान्य यानी 55 से 60% अंक होना बहुत जरूरी है। 

स्कूल की पढ़ाई खत्म होने के बाद डॉक्टर की पढ़ाई के लिए कॉलेज में एडमिशन लेना पड़ता है। कॉलेज की प्रवेश परीक्षा में पास होने के बाद ही आपको कॉलेज में एडमिशन मिलता है। नीट और एम्स की प्रवेश परीक्षा में बहुत अधिक कंपटीशन होता है क्योंकि पूरे भारत देश में लाखों की संख्या में छात्र इन परीक्षाओं में बैठते हैं। अगर आप नीट और एम्स की परीक्षाओं में अच्छी सफलता हासिल करना चाहते हैं तो इनकी तैयारी आपको कक्षा 10 से ही करनी होती है। क्योंकि ये परीक्षा बहुत कठिन होती है इसलिए इनकी पढ़ाई के लिए अच्छी तैयारी करने की जरूरत होती है।

डॉक्टर की पढ़ाई में प्रवेश परीक्षा के लिए अप्लाई करने के लिए आपकी कक्षा 12वीं में हर विषय में कम से कम 50% अंक होने अत्यंत आवश्यक है। उसके बाद ही आप कॉलेज प्रवेश परीक्षा के लिए अप्लाई कर सकते हैं। कॉलेज प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए आपको पिछले सालों से नीट के पेपर पढ़ने चाहिए। मेडिकल प्रवेश परीक्षा के पेपर के बारे में पूरी जानकारी हासिल करनी चाहिए क्योंकि डॉक्टर कॉलेज प्रवेश परीक्षा का पेपर सबसे अलग होता है। 

डॉक्टर की पढ़ाई का मतलब –

वर्तमान समय में कई सारे ऐसे स्टूडेंट होते हैं जो स्कूल की पढ़ाई के समय ही सोच लेते हैं कि उन्हें आगे चलकर डॉक्टर बनना है। लेकिन उन्हें इस बारे में बिल्कुल भी जानकारी नहीं होती है कि आखिरकार डॉक्टर की पढ़ाई कितनी कठिन होती है और डॉक्टर बनना कितना मुश्किल है। डॉक्टर की पढ़ाई करने के लिए कक्षा 12 में साइंस विषय के साथ पास होना बहुत जरूरी होता है और उसके अलावा हर विषय में 50% अंक होने बहुत अनिवार्य होते हैं। डॉक्टर की पढ़ाई करने के लिए आपको सबसे पहले प्रवेश परीक्षाएं देनी होती है। 

डॉक्टर की पढ़ाई के लिए मुख्य विषय साइंस यानी विज्ञान होता है। प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद छात्र को मेडिकल प्रवेश परीक्षा में आए हुए अंक और पसंद के हिसाब से ही मेडिकल कॉलेज में प्रवेश दिया जाता है। डॉक्टर की पढ़ाई करने के लिए सबसे ज्यादा कंपटीशन एमबीबीएस कोर्स में होता है। इस कोर्स की लाखों की संख्या में छात्र पढ़ाई करते हैं। एमबीबीएस की पढ़ाई करने के लिए छात्र की उम्र 17 से लेकर 25 वर्ष के बीच में होना बहुत जरूरी है और उसके अलावा एमबीबीएस के कॉलेज प्रवेश के लिए छात्र को नीट या एम्स की प्रवेश परीक्षा पास होना बहुत जरूरी है।

अगर छात्र एमबीबीएस में अच्छी पढ़ाई करके डिग्री हासिल कर लेते हैं तो उन्हें जॉब करने के कई सारे ऑप्शन खुल जाते हैं। एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करने के बाद आप हॉस्पिटल में भी जॉब कर सकते हैं। उसके अलावा आप खुद का किलनिक सेंटर खोल सकते हैं। खुद का नर्सिंग होम, मेडिकल सेंटर, लैबोरेट्रीज और हेल्थ सेंटर में भी आसानी से जॉब कर सकते हैं। 

हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि इंसान की जिंदगी में डॉक्टर की सबसे बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। तभी तो डॉक्टर की पढ़ाई सबसे कठिन मानी जाती है, क्योंकि इंसान की जिंदगी डॉक्टर के हाथों में होती है। वैसे तो डॉक्टर बन पाना पढ़ाई करने वाले छात्र के लिए कोई मुश्किल काम नहीं है। डॉक्टर की पढ़ाई के लिए शुरू से ही रुचि होनी चाहिए और छात्र को स्कूल के समय से ही अच्छी पढ़ाई करनी चाहिए। 

डॉक्टर की पढ़ाई पूरी होने के बाद आप अपना खुद का मेडिकल स्टोर भी खोल सकते हैं। वर्तमान समय में मेडिकल नर्सिंग को भी अधिक महत्व दिया जाता है। इसके लिए छात्र को लगभग दो-तीन साल किसी अच्छे अस्पताल में जाकर सर्टिफिकेट के साथ ट्रेनिंग लेनी होती है। हॉस्पिटल से अच्छे काम का सर्टिफिकेट मिलने के बाद आप खुद का मेडिकल क्लिनिक भी खोल सकते हैं। यह आपकी प्राइवेट जॉब की तरह होता है। डॉक्टर की पढ़ाई पूरी करने के बाद छात्र सरकारी तथा प्राइवेट जॉब दोनों विकल्प का चयन कर सकते हैं। 

यह भी पढ़े – वर्तमान समय में ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बच्चों को मोबाइल दिलाना सही है या गलत

Army Officer कैसे बने | मिलट्री में ऑफिसर बनने के लिए क्या करे