ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था से होने वाले फायदे और नुकसान | Advantages and disadvantages of online education system - पिछले वर्षों से चल रही कोरोना नाम की बीमारी के कारण सभी प्रकार की शिक्षा प्रणाली पर बहुत असर हुआ था। इसमें सबसे अधिक असर ऑफलाइन शिक्षा प्रणाली पर हुआ था। आपको अच्छी तरह से पता है की इस महामारी के समय स्कूल, कॉलेज और क्लासेज पूरी तरह से बंद कर दिए गए थे। शिक्षा की सभी प्रकार की सुविधाएं बंद हो जाने के बाद ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली को आगे बढ़ाया गया था। 

ऑनलाइन शिक्षा (Online Education) शुरू करने का सबसे बड़ा कारण यह था कि इस महामारी के कारण बच्चों की शिक्षा पर किसी प्रकार का कोई असर ना पड़े। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऑनलाइन शिक्षा से बच्चों के जीवन पर काफी असर पड़ा है। ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली अपनाने से इसके कुछ फायदे और नुकसान भी देखने को मिल रहे हैं। 

जो बच्चे पहले से प्राइवेट स्कूलों में दाखिला लेकर अपनी पढ़ाई करते थे, वे ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली में बहुत आगे होते हैं। इस बात को आप सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली के लिए मोबाइल या लैपटॉप का होना बहुत जरूरी होता है। शहरी क्षेत्रों में लगभग सभी के पास मोबाइल होता है जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में पूरे परिवार में सिर्फ एक सदस्य के पास ही मोबाइल होता है। इसी कारण ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली (Online Education System) का सबसे अधिक फायदा शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को होगा। 

मैंने अपनी आंखों से देखा है कि कुछ दिनों पहले मोबाइल में गेम खेल का समय बिताने और सोशल मीडिया पर चैटिंग करने वाले लड़के आजकल ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं। ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था अच्छी तरह हो जाने के कारण आजकल बच्चे स्कूल के बाद भी मोबाइल में अपनी पढ़ाई पूरी करते रहते हैं। इस वर्ष कोरोना जैसी महामारी का प्रकोप कम होने के कारण स्कूल, कॉलेज और क्लासेज को फिर से चालू कर दिया गया है। जिसकी वजह से पढ़ाई करने वाले छात्रों ने फिर से ऑफलाइन शिक्षा (Online Education) को अपना लिया है जबकि कई ऐसे छात्र है जो ऑफलाइन शिक्षा के साथ-साथ ऑनलाइन क्लास से भी पढ़ाई करते रहते हैं। 

इस बात को तो हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि स्कूल के समय छात्रों के बैग का वजन काफी अधिक हो जाता है। बैग में किताब कॉपी पूरी ले जानी पड़ती है, जिसकी वजह से कई छात्र घर पहुंचने तक पूरी तरह से परेशान हो जाते हैं। कई ऐसे छात्र है जिन्हें स्कूल जाने के लिए कई किलोमीटर पैदल चलना पड़ता है। पैदल चलने के साथ-साथ उनके बैग का वजन भी बहुत अधिक होता है। ऐसे में छात्रों के लिए ऑनलाइन शिक्षा (Online Education) की व्यवस्था बहुत ही महत्वपूर्ण है।

ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था के कौन-कौन से फायदे और नुकसान है, इसके बारे में विस्तार से जानिए। इसीलिए यह लेख उन सभी छात्रों और उनके परिजनों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है जो अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के लिए दिन रात मेहनत करते हैं।

ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली के फायदे (Advantages of online education system) –

ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था के कारण छात्र अपनी खुद की समय सारणी के अनुसार पढ़ाई कर सकता है। परिवार के सदस्य पढ़े-लिखे होने के कारण ऑनलाइन पढ़ाई करते समय आ रही कठिनाई का हल उसके माता-पिता आसानी से निकाल सकते हैं। 

रोजाना ऑनलाइन पढ़ाई करने से छात्रों की एक समय सारणी बन जाती है जो उन्हें आगे की पढ़ाई में भी काफी फायदेमंद होती है।

ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली अपनाने से छात्रों को रोजाना स्कूल और कॉलेज बिल्कुल भी नहीं जाना होगा जिसकी वजह से उनके स्कूल आने जाने का समय बिल्कुल भी खर्च नहीं होगा।

ऑनलाइन पढ़ाई (Online Education) करने वाले छात्र पढ़ाई के दौरान अपने परिवार के सदस्य नजरों के सामने ही रहते हैं जिसकी वजह से वो मोबाइल या लैपटॉप का किसी और चीज में इस्तेमाल नहीं कर सकते है।

ऑनलाइन पढ़ाई करने वाले बच्चे हर प्रकार की दुर्घटना से सुरक्षित रहते हैं और घर पर ही अपने पढ़ाई सुचारू रखते हैं।

ऑनलाइन पढ़ाई के लिए आजकल कई ऐसी वेबसाइट और एप्लीकेशन है जो बहुत ही कम खर्च में अच्छी पढ़ाई की सुविधा देती है। कई ऐसी मोबाइल एप्लीकेशन है जो प्राइवेट स्कूल के खर्च से भी कम में बच्चों की पढ़ाई करवाते हैं।

आज के समय में ऑनलाइन पढ़ाई (Online Education) को ही सबसे अधिक महत्व दिया जा रहा है इसलिए ऑफलाइन शिक्षा के साथ-साथ ऑनलाइन पढ़ाई भी बहुत जरूरी है। इससे बच्चों को स्कूली शिक्षा के अतिरिक्त कुछ नया सीखने को जरूर मिलेगा।

ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था के नुकसान (Disadvantages of online education system)  –

ऑनलाइन पढ़ाई करने वाले छात्र स्कूल की तरह अपने शिक्षक के साथ किसी भी प्रकार का कोई सवाल जवाब नहीं कर सकते हैं। यह ऑनलाइन पढ़ाई की सबसे बड़ी कमजोरी है। 

यूट्यूब पर पढ़ाई करते समय कॉमेंट कर के सवाल के बारे में पूछा जा सकता है लेकिन कभी-कभी ही आपको पूछे गए सवाल के बारे में बताया जाएगा।

ऑनलाइन पढ़ाई (Online Education) के कारण स्कूल के जैसा माहौल नहीं मिल पाता है। जिसके कारण बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता है, क्योंकि स्कूलों में पढ़ाई के साथ खेलों पर भी ध्यान दिया जाता है। 

ऑनलाइन पढ़ाई करते समय लैपटॉप और मोबाइल का लंबे समय तक उपयोग करने से छात्रों की आंखों पर गहरा असर पड़ता है, जो उनके भविष्य के लिए बहुत ही हानिकारक है।

ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों को ऑनलाइन गेमिंग तथा सोशल मीडिया की वेबसाइट और एप्लीकेशन से दूर रखने के लिए मोबाइल नहीं दिलाते हैं लेकिन ऑनलाइन पढ़ाई के कारण बच्चों को मोबाइल दिलाना पड़ता है।

कई घंटों तक ऑनलाइन पढ़ाई (Online Education) करने से मोबाइल गर्म होने लग जाता है, जिसकी वजह से दुर्घटना की आशंका हमेशा बनी रहती है। 

ग्रामीण क्षेत्रों में किसानी का काम अधिक होने के कारण बच्चों के पढ़ाई पर ध्यान कम दिया जाता है। जिन बच्चों को मोबाइल दिलाया जाता है वे दिनभर उसका दुरुपयोग करते रहते हैं।

जिन छात्रों के पास खुद का मोबाइल होता है वे ऑनलाइन पढ़ाई ना करके पब्जी जैसे गेम और सोशल मीडिया फेसबुक, व्हाट्सएप पर अपना समय निकाल देते हैं।

बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई (Online Education) करवाने के लिए सबसे पहले उनकी पढ़ाई की समय सारणी बनाना बहुत जरूरी है। अगर छात्र के पास मोबाइल है तो उसके मोबाइल को हफ्ते में दो तीन बार चेक करते रहना चाहिए। ऑनलाइन पढ़ाई करवाते समय अपने बच्चे के लिए माता-पिता को चश्मा जरूर बनवाना चाहिए ताकि मोबाइल तथा लैपटॉप की रोशनी का प्रकाश उनकी आंखों पर अधिक ना पड़े। 

मैंने कई ऐसे छात्र देखे हैं जो पढ़ाई करने का बहाना करके नया मोबाइल खरीद लेते हैं जबकि हकीकत में भी मोबाइल से पढ़ाई ना करके सोशल मीडिया और गेमिंग के चक्कर में पड़ जाते हैं। जिसकी वजह से उन्हें बाद में बहुत पछताना पड़ता है। जो छात्र स्कूल की पढ़ाई पूरी कर चुके हैं वो इस पोस्ट को पढ़कर अपने परिवार के अन्य छात्रों तथा खुद को भी सुधारने की कोशिश करें। 

वैसे देखे तो ऑफलाइन तथा ऑनलाइन पढ़ाई (Online Education) दोनों ही बच्चों के लिए बहुत ही मायने रखती है लेकिन ऑनलाइन पढ़ाई के लाभ तथा हानि जानने के बाद आप क्या फैसला करेंगे इसके बारे में कमेंट करके जरूर बताएं।

यह भी पढ़े – ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध | Essay On Online Education In Hindi

ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली :लाभ और इसे बेहतर बनाने के उपाय